सृजन संवाद रचना प्रतियोगिता के परिणामों की घोषणा के सन्दर्भ में आयोजक मंडल सूचित कर देना उचित समझता है । आदरणीय मित्रों , परिणाम घोषित करने की तिथि 25 मार्च थी , जिसमे कुछ विलम्ब हो रहा है किंतु परिणाम यथाशीघ्र दो-तीन दिनों के भीतर ही आ जायेंगे । किसी साहित्यिक प्रतियोगिता के परिणामों की … पढ़ना जारी रखें

Advertisements

☆ग्रे★ ==== किसी व्यक्ति को नापसन्द करने के जितने संभावित गुण और लक्षण होने चाहिए वो सब थे सर्वेश्वर प्रसाद सिंह में। सिंह साहब मेरे पिता के शिक्षण काल के सीनियर फिर सहपाठी थे, पिता की मत मारी गई होगी जो नौकरी लगने के बाद भी इस दोस्ती को कायम रखते हुए अगल-बगल मकान खड़ा … पढ़ना जारी रखें

तू बता दे मुझे जिंदगी ऐ घोडा टिक टिक ..ये इशारे होते.. पिता घोडा बन जाता बेटा बैठा कान को जोर से खिचता और दस बाई दस के कमरे में गोल गोल चक्कर की कहानी ...अब जरा बड़ा हुआ बेटा भी पिता पर सवार ..चल घोडा.. पिता दफ्तर से वापस आया होकर भी झुक जाता … पढ़ना जारी रखें

सृजन संवाद प्रतियोगिता प्रथम-2017 पर आप सबकी निम्न प्रतिक्रियाएं प्राप्त हुई। आगे भी आप सबका सहयोग अपेक्षित हैं। "सृजन संवाद द्वारा आयोजित इस प्रतियोगिता का उद्देश्य अतिउत्तम है ! इससे रचनाकारों का उत्साहवर्धन होगा तथा वे और लिखने के लिए प्रेरित होंगे ! भविष्य में भी ऐसी प्रतियोगिताओं की प्रतीक्षा रहेगी ! इस प्रतियोगिता से … पढ़ना जारी रखें

सृजन संवाद रचना प्रतियोगिता में रचनायें भेजने की अवधि चंद दिन पहले ही समाप्त हुई। अच्छी रचनायें आयीं और पर्याप्त रचनायें आयीं। भविष्य में भी आप सभी का उत्साह इसी तरह बने रहने की उम्मीद हैं। सृजन संवाद प्रतियोगिता (प्रथम) के परिणामों की घोषणा 25 मार्च को की जायेगी। तब तक विभिन्न लेखको की रचनाएं … पढ़ना जारी रखें

लगा, तुझे जब गले लगाया, अब अपनापन सूख गया मुरझाई- सी हँसी होंठ पर, गहरा चुम्बन सूख गया नाजुक कन्धे बोझ उठायें , धोयें ढाबे पर बरतन बाप मरा तो दुनिया बदली ,भोला बचपन सूख गया नैहर छूटा , हँसी- कहकहे, बन्दी बने कोठरी में आँखें धंसी , होंठ पपड़ाये, प्यारा दरपन सूख गया चन्द … पढ़ना जारी रखें

प्रतियोगिता से संबंधित सूचना। वर्तमान में चल रही कविता कहानी प्रतियोगिता के विशिष्ट निर्णायक श्री अनुराग शर्मा (संपादक सेतु, पिट्सबर्ग अमेरिका) और असित कुमार मिश्र के सुझावों पर वर्तमान आम चुनावों को देखते हुए प्रतियोगिता में भाग लेने की अवधि दिनांक 15/02/2017 से बढ़ाकर 28/02/2017 तक की जाती है। कुछ रचनाकारों की लिंक विषयक समस्या … पढ़ना जारी रखें

कल तुम,किसी और के हो जाओगे, पुराने बंधन तोड़ नये रिश्ते निभाओगे, मांग रँगी होगी तेरी, किसी और के नाम से, पहचान होगी तेरी, फिर उसी के नाम से फिर किसी अपने को भी, तुम अंजान बताओगे, कल तुम,किसी और के हो जाओगे, हाथ थाम किसी का, नईदुनिया में कदम रखोगे तुम, पर किसी की … पढ़ना जारी रखें

# हत्या_एक_लेखक_की ★★★★★★★★★★★★★★★★★★★ फोन में मैसेज टोन की आवाज सुनी तो आँख खुली तो देखा सोशल मीडिया पर किसी मान्या का 'गुड मॉर्निंग' का मैसेज पड़ा हुआ था। अरिहंत ने सोचा होगी कोई सोशल मीडिया फ्रेंड या मेरी फैन। अरिहंत के लिए इस तरह के गुड मॉर्निंग, हाय, गुड नाईट टाइप के सन्देश कोई नई … पढ़ना जारी रखें

kकभी सोचा है? जब आखिरी बार मिलेंगे, तो कैसे मिलेंगे? मैं बेतरतीब सा उस मोड़ पे खड़ा मिलूंगा , जहां हमेशा मिलता हूँ, तुम बगैर कोई आईना देखे आओगी, और मुझे फिर से यकीन हो जाएगा कि तुम बेहद खूबसूरत हो... तुम सारी फ़िक्रों को झटक दोगी! शान पे आते अपने बालों की तरह, आँखें … पढ़ना जारी रखें